Saturday 25th of May 2019
Search
ताजा खबर  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 


 मेरी माँ तेरी माँ (Sun, May 14th 2017 / 06:58:09)

माॅं, इस अंर्तध्वनि में संसार समाया हुआ हैं। माॅं है तो हम है, हम है तो जहान हैं। माॅं के चरणों में जन्नत हैं, और उस जन्नत की मन्नत सदा-सर्वदा हम पर आसिन रहती हैं। माॅं की बरकत कभी भेदभाव नहीं करती वह समान रूप से सभी बच्चों पर बरसती हैं। माॅ के लिए कोई औलाद तेरी-मेरी नहीं बल्कि अपनी होती हैं। एक माॅं के आंचल में सब बच्चे समा जाते हैं पर सब बच्चों के हाथों में एक माॅं नहीं समा सकती हैं इसीलिए मेरी माॅं, तेरी माॅं की किरकिरी में माॅं परायी हो जाती हैं। क्यां माॅं का भी बंटवारा हो सकता हैं आज मेरी तो कल तेरी और परसों किसी की नहीं। वक्त के साथ-साथ खून का अटूट बंधन ममता के लिए मोहताज हो जाता हैं। माॅं बेटा-बेटा कहती हैं और बेटा टाटा-टाटा कहता हैं।
वाह! रे जमाना तेरी हद हो गई जिसने दुनिया दिखाई वह बेगर्द होकर तोल मोल के चक्कर में बेघर हो गई। यह एक चिंता की बात नहीं वरन् चिंतन की बात हैं कि आखिर ऐसा क्यों और किस लिए हो रहा है? इसका निदान ढूंढे नहीं मिल रहा है या ढूंढना नहीं चाहते यथा जान के भी अंजान बने हुए हैं। चाहे जो भी इस वितृष्णा में दूध कर्ज मर्ज बनता जा रहा है जो एक दिन नासुर बनकर मानवता को तार-तार कर देगा, तब हमें अहसास होगा कि माता, कुमाता नहीं हो सकती अपितु सपूत कपूत हो सकते हैं।
बहरहाल, पूत के पांव जब पालने में होते तब से वह माॅं, माॅं की मधुर गुजांर से सारे जग को अलौकिक कर देता हैं। अपनी माॅं के लिए रोता हैं, बिलकता हैं और तडपता हैं माॅं की गोद में बैठकर निवाला निगलकर आत्मा की तृप्ति करता हैं। उसे तो चहुंओर मात्र दिखाई पडती है तो अपनी माॅं और माॅं, माॅं कहकर अपनी माॅं पर अपना हक जताता हैं। यह ममतामयी माया माॅ-बेटे के अनमोल रिष्ते का बेजोड मिलन हैं। लगता है यह कभी टूटेगा नहीं पर काल की काली छाया इस पवित्र बंधन को जार-जार करने में कोई कोर कसर नहीं छोडती। देखते ही देखते मेरी माॅं, तेरी माॅ और दर-दर की माॅं बन जाती हैं।
दरअसल, बडे होकर आधुनिकता की होड व भौतिक सुख-सुविधाओं के उलझन में नफा-नुकसान के कायदे-कानून को मानने लगते है। यहां बूढे माॅं-बाप बेकाम की चीज बनकर बोझ लगने लगते हैं। जब इनसे कोई फायदा नही तो इन्हें पालने का क्यां मतलब रह जाता है? इसी मानस्किता को अख्तियार किये तथाकथित बेपरवाह खूदगर्ज अपनी जननी को तेरी माॅं-तेरी माॅं बोलकर अपनी जिम्मेदारियों से छूटकारा पाना चाहते है। वीभत्स चैथे आश्रम में पनाह देने के बजाय वृद्धाश्रम में ढकेल कर या कूड-कूडकर जीने के लिए हाथों में भीख कटोरा थमा देते है। जहां वह बूढी माॅं मेरे बेटे-मेरे बेटे की करहाट में दम तोडने लगती हैं कि कब मेरा बेटा आएगा और प्यार से दो बून्द पानी पिलाएगा।
हाॅं, ऐसे कम्बखतों को फिक्र होगी भी कैसे! कि माॅं के बिना जीना कैसा। जाके पूछे उनसे जिनकी माॅं नहीं है! वह तुम्हें बताएगें कि माॅं होती क्या है! और नसीब वाले होकर तुम भाई-भाई लडते हो कि माॅं तेरी हैं, माॅं तेरी हैं। यह कौन सा इंसाफ है कि बचपन में माॅं मेरी और जवानी माॅं तेरी! तेरी नही तो फिर बूढी माॅं किसकी! अच्छा नहीं होगा कि माॅं को हम अपनी रखे। क्योंकि माॅं तो माॅं होती है तेरी ना मेरी चाहे वह जन्म देने वाली हो या पालने वाली किवां धरती माॅं हो। वह तो हमेषा बच्चों का दुःख हर लेती है और सुख देती हैं। तो क्या हम उस माॅं को जिदंगी के अंतिम पडाव में सुख के दो निवाले और बोल अर्पित नहीं कर सकते, बेषक कर सकते है। नहीं करेंगे तो माॅं का अपने बेटे पर से विष्वास उठने लगेगा जो अमंगलकारी होगा।



हेमेन्द्र क्षीरसागर
लेखक व विचारक



अस्वीकरण - इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के स्वयं (निजी) के विचार है इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता , व्यावहारिकता, व सच्चाई के प्रति के enewsmp.com उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी जानकारियां ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई है । इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना और तथ्य अथवा विचार enewsmp.com के नहीं है , तथा enewsmp.com उनके लिए किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है

 
समान समाचार  
enewsmp.com
     
सरकार पर सबाल .... जानिये कलमकार कौंशल किशोर चतुर्वेदी से .....
मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 28 नवंबर के बाद के नौ दिन यानि 7 दिसंबर तक ज्यादा सुकून के थे या फिर 7 दिसंबर की शाम साढ़े पांच बजे के बाद का समय। यदि भारतीय जनता पार्टी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेताओं से कोई पूछे तो उत्तर दोनों ही तरफ से मिलेगा कि थोड़ी खुशी, थोड़ा गम...जैसे हालात हैं। यह एग्जिट पोल नाम की जो रंग-बिरंगी चिडिय़ा है, वह जब आंखों के सामने आती है तो कभी उसके रंगीन पंख मन को लुभाते हैं तो कभी धुंधली सी चिडिय़ा मन को विचलित करने वाली होती है। दोनों ही पार्टी के नेताओं खासतौर पर शीर्ष नेतृत्व की हालत शायद इससे जुदा नहीं है। 7 दिसंबर को एग्जिट पोल आने के बाद दोनों ही दलों
read more..

सरकार पर सबाल .... जानिये कलमकार कौंशल किशोर चतुर्वेदी से .....

बिगड़ती शिक्षा पद्धति व कमजोर होते शिक्षण संस्थान का जिम्मेदार कौन

एक सवाल हमारा भी: आखिर क्या कुछ कहता है आजादी का 70वां साल, देश को है बदलाव की जरूरत

उद्योग मंत्री श्री शुक्ल के जन्म-दिवस पर विशेष:- 'व्यक्ति नहीं, व्यक्तित्व हैं राजेंद्र शुक्ल'

संसद के दर पर सियासत दारी

live tv
enewsmp.com
enewsmp.com
enewsmp.com
 
 
 
 
होम  | देश/विदेश  | एमपी न्यूज़  | सीधी दर्पण  | राजनीति  | खेल खबर  | व्यापार  | कालचक्र  | हेल्थ  | क्राइम  | कैरियर  | टेक्नोलॉजी  | मनोरंजन  | ब्लॉग  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें  | Live टीवी
enewsmp.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : Enewsmp.com
 
Hit Counter